Skip to main content

नाटक 24 घंटे में झलका माता-पिता का दर्द






शिवराज गूजर के निर्देशन में खेला गया संतोष कुमार निर्मल का नाटक
आप बड़े मन से किसी के यहां जायें और वहां उपेक्षा मिले तो कैसा महसूस करेंगे आप। खासकर तब जब उसेक्षा करने वाला कोई और नहीं आपका अपना बेटा हो। आपकी अपनी बहू हो। माता-पिता का यह दर्द महाराणा प्रताप सभागार में मंचित किए गए नाटक 24 घंटे में झलका। संतोष कुमार निर्मल के लिखे इस नाटक का निर्देशन शिवराज गूजर ने किया।

शिवाजी फिल्म्स की इस प्रस्तुति में सिनेमा व थियेटर के मंझे कलाकारों के जीवंत अभिनय ने दर्शकों की आंखें नम कर दी। नाटक का कथानक यह है कि नौकरी से सेवानिवृत्त होने के बाद माता-पिता कुछ वक्त अपने बेटे के साथ बिताना चाहते हैं। इसी चाह में वे मुंबई में वाइफ व बच्चे के साथ रह रहे अपने से मिलने पहुंच जाते हैं। वहां जाने पर उन्हें अहसास होता है कि जितने अरमान लेकर वे अपने बेटे बहू से मिलने के लिए आए हैं उससे कई गुना परेशानी उनके आने से बेटा व बहू को है। वे उन्हें मुसीबत समझ रहे हैं और धर्मशाला में टिकाने की बात कर रहे हैं। इससे उनका दिल टूट जाता है और वे राज खोलते हैं कि वे वहां रहने नहीं आए हैं। वे तीर्थ यात्रा पर जा रहे हैं। टेन अगले दिन होने के कारण वे 24 घंटे अपने बेटे-बहू के पास आए थे। बेटे को अपनी गलती का अहसास होता है और वह उन्हें रोकने की काशिश करता है, लेकिन वे नहीं रुकते।
इस मर्मस्पर्शी कहानी में पिता का रोल सिकंदर चौहान ने किया तथा उनके अपोजिट सुनिता बर्मन थीं। बेटे की भूमिका अनिल सैनी ने निभाई तथा उनकी वाइफ ज्योति शर्मा बनीं। राजेश अग्रवाल ने सिकंदर चौहान के दोस्त के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। पोते का किरदार अनुराग गुर्जर ने निभाया। खास बात यह रही कि नाटक के हर दृश्य में तालियां बजीं।

Popular Posts

अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

1942
1 नजराना
1961
2 बाबासा री लाडली
1963

23 से शुरू होगी इस राजस्थानी फिल्म की शूटिंग

जयपुर। गुर्जर अणची मां प्रोडक्शंस के बैनर तले बन रही राजस्थानी फिल्म ‘बाबो भात भरयो गुर्जरी को’ की शूटिंग 23 सितंबर से शुरू होगी। इस दौरान उदयपुर वाटी, गुढ़ा गौड़जी किशोरपुरा, पोंख व आसपास के क्षेत्र में विभिन्न दृश्यों का फिल्मांकन किया जाएगा।

दादू सम्प्रदाय के संत गणेशदास जी महाराज के परम शिष्य बाबा विजय राम दास की लीलाओं पर आधारित इस फिल्म के निर्माता हैं अभिनेता एवं भूतपूर्व विधायक डा.भैरों सिंह गुर्जर। लेखक व निर्देशक शिरीष कुमार एवं अभिनव शर्मा हैं तथा शोध लेखन का कार्य तारा चंद मीणा ने किया है।

फिल्म में गुर्जरी की भूमिका वंदना राने जोगी निभाएंगी। सुरेश मीणा किशोरपुरा, श्याम यादव, रामदास स्वामी, आनंद पिपराली, शंकर सैन, संजय सैनी, मनोज हरदयाल पुरा, मुरारी शुक्ला, विजय सिंह राठौड़, सुमन चांडक, नीलम मिश्रा और अभिलाषा रणवा  महत्वपूर्ण भूमिकाओं में नजर आएंगे। अतिथि भूमिका में सौरभ गुर्जर व नेहा सिंह होंगे।
पहले 17 मई को होनी थी शूटिंग राजस्थानी फिल्म ‘बाबो भात भरयो गुर्जरी को’ का मुहूर्त 17 मई को नरैना के दादू द्वारा में होने वाला था, लेकिन शूटिंग वाले दिन ही अलसुबह निर्देशक शिरीष कुमा…

एक और राजस्थानी फिल्म रिलीज के लिए तैयार, 12 को होगा म्यूजिक रिलीज

जयपुर।  निर्देशक अनिल सैनी की एक और राजस्थानी फिल्म रिलीज के लिए तैयार है-जाग्रति। इसका म्यूजिक 12 अगस्त को शास्त्रीनगर स्थित साइंस पार्क में आयोजित वंदे मातरम कार्यक्रम में रिलीज किया जाएगा। इस मौके पर फिल्म के पोस्टर का विमोचन भी होगा।

शशि सुंदर फिल्म के बैनर तले बनी इस फिल्म के निर्माता हैं  भवर सिंह। सूत्रों के अनुसार सबकुछ योजनानुसार रहा तो शिक्षा के महत्व को दर्शाती यह फिल्म अगले महीने सिनेमाघरों में पहुंच जाएगी।

कास्ट एंड क्रूबैनर : शशि सुंदर फिल्म
निर्माता : भंवर सिंह
निर्देशक : अनिल सैनी
लेखक : योगेश बालोत
डीओपी : सुनील
एडिट : संदीप सैनी
मेकअप : संजय सेन, पंकज सेन
म्यूजिक : करण सिंह,अमन अमोस
गीत : अनिल भूप
सिंगर : अमन अमोस, सुमन मेहता
कलाकार : राशि शर्मा, योगेंद्र वर्मा, योगेश बालोत, महेश महावर, प्राची, हितेश सैनी,आनद गंगवार, मोहित, तरुण, राजेश भार्गव, सेलेष, शिव, विनोद, सुनील जैन, कौसल्या, विनता,  अंसुमान, सौम्य, अभी, भूमि और अन्य।

Recent in Sports