अपमान हुआ तो भड़के सचिन और इमरान - rajasthani cinema

Breaking

rajasthani cinema

आपके पास भी खबर है तो मेल करें. rajasthanicinema@gmail.com

STAY WITH US

Post Top Ad

Post Top Ad

Thursday, October 1, 2015

अपमान हुआ तो भड़के सचिन और इमरान

राजस्थानी फिल्म फेस्टिवल आयोजक पर दो राजस्थानी कलाकारों ने लगाए गंभीर आरोप

Rajasthani Movie Sachin Chaube & Imran Khan

राजदीप चौधरी

जयपुर. हाल ही सम्पन्न राजस्थानी फिल्म फेस्टिवल अवार्ड सेरेमनी में कलाकारों को पहले सम्मान के लिए बुलाया, फिर अपमानित करके उनका मखौल उड़ाया गया। यह आरोप लगाया है राजस्थानी फिल्मों के दो प्रमुख अभिनेताओं सचिन चौबे और इमरान खान ने। उन्होंने फेस्टिवल की डायरेक्टर संजना शर्मा पर अपमानित करने, परेशान करने और आयोजन के नाम पर गबन करने के आरोप लगाए हैं।


टांको भिड़ग्यो, अर्जुन आॅटो वाला जैसी राजस्थानी फिल्मों के हीरो सचिन चौबे और इमरान खान ने बताया कि फेस्टिवल का आयोजन करने वाली संजना शर्मा ने फेस्टिवल की अवॉर्ड सेरेमनी में प्रस्तुति देने के लिए हम दोनों को आमंत्रित किया था। हम बिना फीस के प्रस्तुति देने के लिए राजी भी हो गए। हमें संजना ने आश्वासन दिया कि जयपुर में हमारे ठहरने की होटल में व्यवस्था की जाएगी साथ ही अन्य दैनिक जरूरतों को भी पूरा किया जाएगा। इस पर हम कार्यक्रम के सात दिन पहले जयपुर आ गए। हमें शहर से 70 किलोमीटर दूर एक फार्म हाउस में ठहरा दिया गया, जहां से रोज हम अपने खर्चे से प्रस्तुति के अभ्यास के लिए आते थे। पिछले शनिवार को हुए अवॉर्ड सेरेमनी के कुछ दिन पहले हमने जब संजना से इसकी शिकायत की तो हमें जयपुर में एक परिवार के साथ ठहरने के लिए कह दिया गया। सचिन और इमरान ने बताया कि लगातार बेज्जती होने के कारण हमने कार्यक्रम में प्रस्तुति देने के बजाय उसका बाहिष्कार करना ही उचित समझा।

फेस्टिवल की डायरेक्टर पर दोनों अभिनेताओं ने यह भी आरोप लगाया है कि प्रत्येक वर्ष राजस्थानी कलाकारों के नाम पर फंड इकट्ठा किया जाता है। बॉलीवुड के बड़े कलाकारों को आमंत्रित कर उन्हें फाइव स्टार सुविधाएं प्रदान की जाती हैं, जबकि राजस्थानी कलाकारों को उपेक्षित कर दिया जाता है।

मुझे कोई मतलब नहीं कोई चाहे कुछ भी कहे
उधर, इस मामले को लेकर फेस्टिवल की डायरेक्टर संजना शर्मा से सम्पर्क किया गया तो उन्होंने उल्टे कलाकारों पर ही आरोप लगाया और कहा कि उन दोनों को रोज हाई क्लास सुविधाएं चाहिए थीं, जो हमारे बस की बात नहीं है। मैंने उन्हें इन्वाइट नहीं किया था, फिर भी मुझे फर्क नहीं पड़ता। कोई कुछ भी कहे, आई डॉन्ट केयर।

                                                                                                                          (नेशनल दुनिया से साभार)

No comments:

Post Top Ad