Skip to main content

पटकथा लेखक कन्नन अय्यर को याद किया

राजस्थानी व हिंदी फिल्मों में समान रूप से सक्रिय रहे पटकथा लेखक कन्नन अय्यर की जयंती गुरुवार को निर्देशक लखविंदर सिंह के त्रिमूर्ति सर्किल स्थित कार्यालय में मनाई गई। इस दौरान फिल्मकारों व कलाकारों ने उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की और उनके जीवन चरित्र पर प्रकाश डाला।


स्व. अय्यर ने फिल्म इंडस्ट्री में सहायक निर्देशक के रूप में शुरुआत की।  हालांकि वे दक्षिण भारतीय थे लेकिन उनकी हिंदी पर जबर्दस्त पकड़ थी। उन्होंने भंवरी जैसी चर्चित राजस्थानी फिल्म के अलावा महर करो पपळाज माता, माटी का लाल मीणा गुर्जर, साथ कदे न छूटे और हुकुम की पटकथा लिखी। भोजपुरी में भी उन्होंने तीन फिल्में लिखी। छोटे परदे पर भी उनका नियमित दखल रहा। अंदाज, अमरप्रेम, जान, जंग, युग, विश्वास और सलाखों के पीछे जैसे करीब 35 धारावाहिक लिखे। अंतिम दिनों में भी वे एक अनाम फिल्म की पटकथा पर काम कर रहे थे।

पुष्पांजलि अर्पित करने वालों में निर्देशक लखविंदर सिंह, सुरेश मुदगल, संवाद लेखक शिवराज गूजर, नृत्य निर्देशक नटराज, अभिनेता अंदाज खान, सिकंदर चौहान, बलवीर सिंह राठौड़, शकूर खान व अन्य कलाकार शामिल थे।

Comments

Popular posts from this blog

एक और राजस्थानी फिल्म रिलीज के लिए तैयार, 12 को होगा म्यूजिक रिलीज

जयपुर।  निर्देशक अनिल सैनी की एक और राजस्थानी फिल्म रिलीज के लिए तैयार है-जाग्रति। इसका म्यूजिक 12 अगस्त को शास्त्रीनगर स्थित साइंस पार्क में आयोजित वंदे मातरम कार्यक्रम में रिलीज किया जाएगा। इस मौके पर फिल्म के पोस्टर का विमोचन भी होगा।

शशि सुंदर फिल्म के बैनर तले बनी इस फिल्म के निर्माता हैं  भवर सिंह। सूत्रों के अनुसार सबकुछ योजनानुसार रहा तो शिक्षा के महत्व को दर्शाती यह फिल्म अगले महीने सिनेमाघरों में पहुंच जाएगी।

कास्ट एंड क्रूबैनर : शशि सुंदर फिल्म
निर्माता : भंवर सिंह
निर्देशक : अनिल सैनी
लेखक : योगेश बालोत
डीओपी : सुनील
एडिट : संदीप सैनी
मेकअप : संजय सेन, पंकज सेन
म्यूजिक : करण सिंह,अमन अमोस
गीत : अनिल भूप
सिंगर : अमन अमोस, सुमन मेहता
कलाकार : राशि शर्मा, योगेंद्र वर्मा, योगेश बालोत, महेश महावर, प्राची, हितेश सैनी,आनद गंगवार, मोहित, तरुण, राजेश भार्गव, सेलेष, शिव, विनोद, सुनील जैन, कौसल्या, विनता,  अंसुमान, सौम्य, अभी, भूमि और अन्य।

अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

1942
1 नजराना
1961
2 बाबासा री लाडली
1963

नखराळा देवरिया अब भोजपुरी फिल्मों में मचाएगा धूम

जयपुर। सुपातर बीनणी से नखराळो देवरियो के रूप में फेमस हुए राजस्थानी फिल्मों के जाने-माने अभिनेता क्षितिज कुमार ने अब भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री में भी पांव जमाने शुरू कर दिए हैं। वे इन दिनों दो भोजपुरी फिल्मों में अभिनय कर रहे हैं। एक है ना जाने कब प्यार हो गइल और दूसरी है जन्नत-ए-इश्क


क्षितिज कुमार ने बताया कि दोनों ही फिल्मों में उनका रोल पावरफुल है। दोनों में ही वो हीरोइन के पिता के किरदार के रूप में नजर आएंगे। चूंकि, हीरोइन के पिता हैं तो उनके हीरोइन के साथ भी सीन हैं तो हीरो के साथ भी। उन्होंने बताया कि ना जाने कब प्यार हो गइल के डाइरेक्टर रामकिशन साहनी हैं। इस फिल्म में उनके साथ घनश्याम, रामकिशन साहनी, प्रिया, अनुराधा और रोशनी महत्वपूर्ण भूमिकाओं में हैं। इसकी शूटिंग काशीपुर, जैतपुर और नैनीताल व आसपास के क्षेत्र में चल रही है।


जन्नत ए इश्क के प्रोड्यूसर पंकज भोमिया हैं और डाइरेक्शन नीरज भारद्वाज कर रहे हैं। इस फिल्म में वे प्रिया रंजन, मिस इंडिया रही कैरिनिका मिश्रा, सुशील सिंह, और ललितेश झा जैसे कलाकारों के साथ काम कर रहे हैं।