Skip to main content

पटकथा लेखक कन्नन अय्यर को याद किया

राजस्थानी व हिंदी फिल्मों में समान रूप से सक्रिय रहे पटकथा लेखक कन्नन अय्यर की जयंती गुरुवार को निर्देशक लखविंदर सिंह के त्रिमूर्ति सर्किल स्थित कार्यालय में मनाई गई। इस दौरान फिल्मकारों व कलाकारों ने उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की और उनके जीवन चरित्र पर प्रकाश डाला।


स्व. अय्यर ने फिल्म इंडस्ट्री में सहायक निर्देशक के रूप में शुरुआत की।  हालांकि वे दक्षिण भारतीय थे लेकिन उनकी हिंदी पर जबर्दस्त पकड़ थी। उन्होंने भंवरी जैसी चर्चित राजस्थानी फिल्म के अलावा महर करो पपळाज माता, माटी का लाल मीणा गुर्जर, साथ कदे न छूटे और हुकुम की पटकथा लिखी। भोजपुरी में भी उन्होंने तीन फिल्में लिखी। छोटे परदे पर भी उनका नियमित दखल रहा। अंदाज, अमरप्रेम, जान, जंग, युग, विश्वास और सलाखों के पीछे जैसे करीब 35 धारावाहिक लिखे। अंतिम दिनों में भी वे एक अनाम फिल्म की पटकथा पर काम कर रहे थे।

पुष्पांजलि अर्पित करने वालों में निर्देशक लखविंदर सिंह, सुरेश मुदगल, संवाद लेखक शिवराज गूजर, नृत्य निर्देशक नटराज, अभिनेता अंदाज खान, सिकंदर चौहान, बलवीर सिंह राठौड़, शकूर खान व अन्य कलाकार शामिल थे।

Comments

Popular Posts

अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

1942
1 नजराना
1961
2 बाबासा री लाडली
1963

म्हारी सुपातर बीनणी का तीसरे सप्ताह में प्रवेश

सीकर के सम्राट सिनेमा में सफलतापूर्वक दो सप्ताह पूरे फनी पिपुल एंटरटेन्मेंट प्राइवेट लिमिटेड बैनर तले बनी राजस्थानी फिल्म म्हारी सुपातर बींदणी सीकर के सम्राट सिनेमा में सफलतापूर्वक दो सप्ताह पूरे करने के बाद तीसरे में प्रवेश कर गई है। राजस्थानी सिनेमा के चाहने वालों के लिए यह बड़ी खुशखबरी है,

राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर लांच

जयपुर। श्रवण सागर की अपकमिंग राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर मालवीय नगर स्थित होटल ग्रांड हरसल में किया गया। महाराणा प्रताप के सैनानी गाडिया लुहारों की वर्तमान हालत और पिछड़ेपन पर बनी इस फिल्म का निर्देशन संतोष क्रांति मिश्रा ने किया है।

फिल्म के प्रोड्यूसर मनोज यादव व प्रजेंटर अनिल यादव ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि लोगों को यह फिल्म जरूर पसंद आएगी। फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे अभिनेता श्रवण सागर ने कहा कि यह फिल्म उनके दिन के बहुत करीब है। इसमें मेरा किरदार मेरे अब तक निभाए किरदारों से एकदम अलग है। इसके लिए मुझे गाड़िया लुहारों के रहन-सहन, उनके उठने-बैठन और बात करने का तरीका सीखने के लिए काफी तैयारी करनी पड़ी। मैं उन लोगों से मिला भी। उनके बीच रहा भी। इस दौरान मैंने देखा कि कितनी विपरीत परिस्थितियों में वे जीवन जी रहे हैं। थोड़ी परेशानी तो हुई, लेकिन इस दौरान का अनुभव शंखनाद में निभाई गई भूमिका में रम जाने में बहुत मददगार रहा। इस मौके पर बिजनेसमैन अरुण गोयल, विकास पोद्दार और अशोक प्रजापति भी मौजूद रहे।

फिल्म में श्रवण सागर ,संजना सेन, सजल गोयल ,अथर्व श्रीवास्तव ,रॉकी संतोष, गोविंद …

Recent in Sports