Skip to main content

राजस्थानी फिल्मों को पूरा दस लाख ही मिले अनुदान

राजस्थानी सिनेमा विकास संघ की बैठक में सदस्यों ने उठाई मांग

जयपुर। राजस्थानी सिनेमा विकास संघ की बैठक गांधीनगर मोड़ पर सन टावर स्थित स्टार स्ट्रक एक्टिंग स्कूल में हुई। इसमें संघ के पदाधिकारियों ने विचार-विमर्श किया कि कैसे राजस्थानी सिनेमा को आगे बढ़ाया जाए।

बैठक में निर्णय लिया गया कि सिनेमा से जुड़े लोगों को अधिक से अधिक संख्या में संघ से जोड़ा जाए। साथ ही उन कामों की भी लिस्ट बनाई गई, जिनको करने से संघ के सदस्यों को तो लाभ मिले ही, साथ ही राजस्थानी सिनेमा भी आगे बढ़े। सदस्यों ने एक स्वर में कहा कि जब सरकार की ओर से राजस्थानी फिल्मों के लिए अनुदान दिया जा रहा है तो उसमें ‘तक’ का अड़ंगा क्यों? जिस फिल्म को मिले पूरा दस लाख ही मिले। फिल्मों की दो ही कैटेगिरी हो बस। अनुदान दिए जाने योग्य और नहीं दिए जा सकने वाली फिल्म। बैठक में संघ के संरक्षक विपिन तिवारी, अध्यक्ष शिवराज गूजर, उपाध्यक्ष श्रवण सागर, राहुल सूद, पीएम चौधरी, राजेंद्र गुप्ता, शकूर खान, अमन राठौड़, प्रमोद आर्य सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।








Comments

RADHA TIWARI said…
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (16-05-2018) को "रोटी है तकदीर" (चर्चा अंक-2972) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
राधा तिवारी
thanks radha tiwari ji

Popular Posts

अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

1942
1 नजराना
1961
2 बाबासा री लाडली
1963

राजस्थानी फिल्म ट्रिपल बी 21 को होगी रिलीज

राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर लांच

जयपुर। श्रवण सागर की अपकमिंग राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर मालवीय नगर स्थित होटल ग्रांड हरसल में किया गया। महाराणा प्रताप के सैनानी गाडिया लुहारों की वर्तमान हालत और पिछड़ेपन पर बनी इस फिल्म का निर्देशन संतोष क्रांति मिश्रा ने किया है।

फिल्म के प्रोड्यूसर मनोज यादव व प्रजेंटर अनिल यादव ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि लोगों को यह फिल्म जरूर पसंद आएगी। फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे अभिनेता श्रवण सागर ने कहा कि यह फिल्म उनके दिन के बहुत करीब है। इसमें मेरा किरदार मेरे अब तक निभाए किरदारों से एकदम अलग है। इसके लिए मुझे गाड़िया लुहारों के रहन-सहन, उनके उठने-बैठन और बात करने का तरीका सीखने के लिए काफी तैयारी करनी पड़ी। मैं उन लोगों से मिला भी। उनके बीच रहा भी। इस दौरान मैंने देखा कि कितनी विपरीत परिस्थितियों में वे जीवन जी रहे हैं। थोड़ी परेशानी तो हुई, लेकिन इस दौरान का अनुभव शंखनाद में निभाई गई भूमिका में रम जाने में बहुत मददगार रहा। इस मौके पर बिजनेसमैन अरुण गोयल, विकास पोद्दार और अशोक प्रजापति भी मौजूद रहे।

फिल्म में श्रवण सागर ,संजना सेन, सजल गोयल ,अथर्व श्रीवास्तव ,रॉकी संतोष, गोविंद …

Recent in Sports