Skip to main content

नया नाम मेरे लिए बहुत लकी

फिल्म कलाकारों में नाम बदलने का ट्रेंड काफी पुराना रहा है। बॉलीवुड में तो यह आम है। अब यह चलन राजस्थानी सिनेमा में भी शुरू हो गया है। हाल ही यहां भी एक हीरोइन ने अपना नाम बदला है।
यह कदम उठाने वाली अभिनेत्री हैं दंगल फिल्म से चर्चा में आई शीतल सोनी। अपने ज्योतिषी के कहने पर अपना नाम बदलने वाली शीतल का कहना है कि नया नाम उसके लिए काफी लकी साबित हुआ है। यह नाम रखने के बाद उनकी अभिनय की गाड़ी और तेज स्पीड से चल पड़ी है।
   

शिवराज गूजर
  • सुना है आपने अपना नाम बदल लिया।
    आपने बिल्कुल सही सुना है। मैंने शीतल सोनी से बदल कर अपना नाम अनाया टी सोनी रख लिया है। अब मैं आगे के प्रोजेक्ट्स में इसी नाम से काम कर रही हूं।
  •  नाम बदलने की कोई खास वजह? वजह तो खास ही है। मैं ज्योतिषी से मिली थी फिल्म इंडस्ट्री में अपने काम को लेकर। उन्होंने मुझे बताया कि इंडस्ट्री के हिसाब से मेरा नाम सही नहीं है। फिल्म लाइन में प्रगति करनी है, तो मुझे अपना नाम बदलना होगा। हालांकि, मुझे यह बड़ा अजीब सा लगा, पर मुझे उन पर विश्वास है, इसलिए मैंने उनके कहे अनुसार नाम बदलने का मन बना लिया। सोचा नाम बदलने से ही अगर कुछ अच्छा होता है, तो इसमें क्या बुराई है।
  • तो आपने अनाया ही क्यों नाम रखा? क्या यह भी ज्योतिषी ने ही बताया था?
    हां जी। यह नाम उन्होंने ही बताया था। उन्होंने ही मुझे कहा कि अनन्या नाम तुम्हारे लिए बहुत अच्छा रहेगा। उनका कहना था कि यह नाम इंडस्ट्री में वर्क करने के हिसाब से बहुत बढ़िया है। इससे मेरे काम में उठान आएगा। बचपन में भी जब घरवालों ने मेरा नाम निकलवाया था, तो वह अ लेटर पर आया था। अब जब मुझे नाम बदलने के लिए कहा गया और वह भी अ अक्षर से ही शुरू होने वाला, तो वह बात याद आ गई और मैंने यह नाम अपना लिया।
  • नाम के बीच में जो टी है इसका क्या मतलब?
    इसका बहुत गहरा मतलब है जी। यह मेरे जीवन से बहुत निकटता से जुड़ा हुआ है। यह मेरे पिताजी के नाम का पहला अक्षर है। उनका नाम तेज कुमार है। इसे मैंने इसलिए अपने नाम के साथ जोड़ा है, ताकि वे हमेशा मेरे साथ रहें। शादी के बाद भी। जब भी कोई मुझे पुकारे तो साथ में उनका भी नाम आए।
  • तो क्या आपको इससे कोई फायदा हुआ?
    जी हां। यह नया नाम मेरे लिए काफी लकी साबित हुआ। मैंने जब से नाम बदला है, मेरे पास नए-नए प्रोजेक्ट्स आ रहे हैं। हाल ही मैंने दो-तीन टीवी सीरियल और एक हिंदी मूवी साइन की है। मेरा तो यही मानना है कि काम ने यह रफ्तार इस नाम की वजह से ही पकड़ी है।
  • तो इन दिनों तो आपके पास काफी अच्छे प्रोजेक्ट होंगे?
    जी। बिल्कुल। इन दिनों मैं बालाजी का एक सीरियल कर रही हूं-इतना करो ना मुझे प्यार। यह धारावाहिक काफी बड़े स्तर पर बनाया जा रहा है। यह सोनी टीवी चैनल पर दिखाया जाएगा। इन दिनों इसके प्रोमो भी आॅन एयर हो गए हैं। इसमें मेरा बहुत बढ़िया रोल है। इसके अलावा मैं एक हिंदी फिल्म कर रही हूं। एक दो और प्रोजेक्ट्स पर बात चल रही है। जल्द ही वे भी फाइनल हो जाएंगे, ऐसी मुझे उम्मीद है।
  • आपका राजस्थानी सिनेमा में भी अच्छा खासा नाम है। क्या कोई राजस्थानी फिल्म भी कर रही हैं?
    राजस्थानी फिल्में तो मेरा पहला प्यार हैं। वहां से ही मेरा फिल्मी सफर हुआ। मेरी पहली फिल्म दंगल को यहां के लोगों का बहुत अच्छा रेस्पांस मिला। दर्शकों के इसी प्यार ने मुझे हौसला दिया और आज में राजस्थानी और हिंदी फिल्मों के साथ ही छोटे परदे पर भी काम कर रही हूं। हालांकि अभी मैं हिंदी प्रोजेक्ट्स में बिजी हूं, पर जब भी मुझे मौका मिलेगा, मैं राजस्थानी फिल्म जरूर करूंगी।
  • सुना है आप किसी फिल्म में टीचर का रोल कर रही हैं?
    यह बात सही है। मैं एक हिंदी फिल्म में इंग्लिश टीचर बनी हूं, जिसका टाइटल है टेक इट इजी। यह फिल्म बच्चों को लेकर बनी है। दर्पण थिएटर एंड सिने आर्ट्स की इस फिल्म के निर्देशक सुनील प्रेम व्यास हैं। इस तरह का रोल मैंने पहली बार किया है। इस फिल्म को करने के दौरान बच्चों के साथ काफी मजा आया।

Comments

Popular Posts

राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर लांच

जयपुर। श्रवण सागर की अपकमिंग राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर मालवीय नगर स्थित होटल ग्रांड हरसल में किया गया। महाराणा प्रताप के सैनानी गाडिया लुहारों की वर्तमान हालत और पिछड़ेपन पर बनी इस फिल्म का निर्देशन संतोष क्रांति मिश्रा ने किया है।

फिल्म के प्रोड्यूसर मनोज यादव व प्रजेंटर अनिल यादव ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि लोगों को यह फिल्म जरूर पसंद आएगी। फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे अभिनेता श्रवण सागर ने कहा कि यह फिल्म उनके दिन के बहुत करीब है। इसमें मेरा किरदार मेरे अब तक निभाए किरदारों से एकदम अलग है। इसके लिए मुझे गाड़िया लुहारों के रहन-सहन, उनके उठने-बैठन और बात करने का तरीका सीखने के लिए काफी तैयारी करनी पड़ी। मैं उन लोगों से मिला भी। उनके बीच रहा भी। इस दौरान मैंने देखा कि कितनी विपरीत परिस्थितियों में वे जीवन जी रहे हैं। थोड़ी परेशानी तो हुई, लेकिन इस दौरान का अनुभव शंखनाद में निभाई गई भूमिका में रम जाने में बहुत मददगार रहा। इस मौके पर बिजनेसमैन अरुण गोयल, विकास पोद्दार और अशोक प्रजापति भी मौजूद रहे।

फिल्म में श्रवण सागर ,संजना सेन, सजल गोयल ,अथर्व श्रीवास्तव ,रॉकी संतोष, गोविंद …

अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

1942
1 नजराना
1961
2 बाबासा री लाडली
1963

राजस्थानी फिल्म ट्रिपल बी 21 को होगी रिलीज

Recent in Sports