Skip to main content

सिकंदर चौहान ने भोजपुरी में मारी एंट्री

करवाचौथ फिल्म से कर रहे हैं डेब्यू, खलनायकी के दिखाएंगे तेवर


राजस्थान के कलाकार प्रदेश के बाहर भी अभिनय जगत में इस माटी का नाम रोशन कर रहे हैं। ऐसी ही प्रतिभाओं में एक और नाम शामिल हो गया है सिकंदर चौहान का। राजस्थानी फिल्मों में अपनी खलनायकी और कॉमेडी से छाप छोड़ने वाले चौहान ने अब भोजपुरी में एंट्री मारी है।
वे वहां करवाचौथ फिल्म से डेब्यू कर रहे हैं। इसमें वे अपने मनपसंद जोनर खलनायकी के तेवर दिखाएंगे।

राजस्थानी फिल्म माटी का लाल मीणा गुर्जर से लाइमलाइट में आए सिकंदर चौहान को असली पहचान भंवरी ने दी। इसमें उनके द्वारा निभाए गए हरिया के किरदार ने उन्हें दर्शकों का चहेता बना दिया। इसके बाद इस साल आई उनकी दो फिल्मों हुकुम और तांडव में उनकी अदाकारी और भी निखर कर सामने आई। तांडव में खलनायक के रूप में उन्होंने जो तेवर दिखाए वाकई खतरनाक थे। जल्द ही वे रूपकंवर, थाने काजळियो बणा ल्यूं और मजो आ गयो में एक अलग ही अंदाज में नजर आएगे।

सिंकंदर चौहान राजस्थानी के साथ ही बॉलीवुड में भी धीरे-धीरे घुस रहे हैं। वे कंस और कोटा जंक्शन जैसी हिंदी फिल्मों में भी मजबूत किरदार कर रहे हैं। चौहान की खासियत यह है कि वे अपने किरदार में परफेक्शन के लिए जी जान लगा देते हैं। पारस चैनल पर प्रसारित धारावाहिक मैना सुंदरी में अपनी भूमिका में जान फूंकने के लिए उन्होंने सिर मुंडवा लिया। हालांकि, ऐसा करना उन्हें सामाजिक जीवन में काफी भारी पड़ा, लेकिन वे विचलित नहीं हुए। मोहल्ले वालों के साथ-साथ उन्हें पत्नी व बच्चों से भी ताने सुनने पड़े पर वे डटे रहे और उसका नतीजा यह हुआ कि धारावाहिक में सबसे ज्यादा उनका किरदार ही सराहा गया।

सिकंदर कहते हैं-मैने कई साल थिएटर पर संघर्ष करने के बाद यह मुकाम पाया है। इसलिए मैं इसकी अहमियत समझता हूं। मेरे लिए यह शौक नहीं, मेरा यह प्रोफेशन है। मेरी रोजी है। इसे मैं हल्के में नहीं ले सकता। यह मेरे लिए एक-दो दिन का काम नहीं बल्कि जीवन भर की जुगत है। मैं चाहता हूं कि लोग जब सिकंदर का नाम लें तो एक अच्छे अभिनेता के रूप में लें। मेरे शहर का नाट्यकर्मी कभी मेरा जिक्र करे तो कहे-कौन कहता है कि थिएटर वाले फिल्मों में सफल नहीं होते। मिसाल के लिए और कहीं जाने की क्या जरूरत है अपने सिकंदर को देख लो। मैं कोई बहुत बड़ा आर्टिस्ट नहीं हूं, लेकिन हां ! बनना जरूर चाहता हूं। मेरी ख्वाहिश को खुदा ने मूर्त रूप तो दे दिया है, बस अब इसे संवारना है और वो मेरा काम है। इस काम को मैं पूरी लगन से करने में जुटा हूं।

Comments

Popular Posts

राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर लांच

जयपुर। श्रवण सागर की अपकमिंग राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर मालवीय नगर स्थित होटल ग्रांड हरसल में किया गया। महाराणा प्रताप के सैनानी गाडिया लुहारों की वर्तमान हालत और पिछड़ेपन पर बनी इस फिल्म का निर्देशन संतोष क्रांति मिश्रा ने किया है।

फिल्म के प्रोड्यूसर मनोज यादव व प्रजेंटर अनिल यादव ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि लोगों को यह फिल्म जरूर पसंद आएगी। फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे अभिनेता श्रवण सागर ने कहा कि यह फिल्म उनके दिन के बहुत करीब है। इसमें मेरा किरदार मेरे अब तक निभाए किरदारों से एकदम अलग है। इसके लिए मुझे गाड़िया लुहारों के रहन-सहन, उनके उठने-बैठन और बात करने का तरीका सीखने के लिए काफी तैयारी करनी पड़ी। मैं उन लोगों से मिला भी। उनके बीच रहा भी। इस दौरान मैंने देखा कि कितनी विपरीत परिस्थितियों में वे जीवन जी रहे हैं। थोड़ी परेशानी तो हुई, लेकिन इस दौरान का अनुभव शंखनाद में निभाई गई भूमिका में रम जाने में बहुत मददगार रहा। इस मौके पर बिजनेसमैन अरुण गोयल, विकास पोद्दार और अशोक प्रजापति भी मौजूद रहे।

फिल्म में श्रवण सागर ,संजना सेन, सजल गोयल ,अथर्व श्रीवास्तव ,रॉकी संतोष, गोविंद …

अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

1942
1 नजराना
1961
2 बाबासा री लाडली
1963

राजस्थानी फिल्म ट्रिपल बी 21 को होगी रिलीज

Recent in Sports