Skip to main content

 रिकॉर्ड तोड़ रहा यह साल, रिलीज हुई 12 फिल्में, पिछले साल 10 मूवीज पहुंची थीं सिनेमा हॉल

 

  • शिवराज गूजर
राजस्थानी सिनेमा के भी अब अच्छे दिन आ रहे हैं। एक के बाद एक रिलीज हो रही फिल्मों से तो यही लग रहा है। इस साल अब तक 12 फिल्में रिलीज हो चुकी हैं और दिसंबर महीना पूरा बाकी है।


    इस वर्ष फिल्म रिलीज होने का सिलसिला शुरू हुआ एक धार्मिक फिल्म जय हींगलाज माता से। यह फिल्म फरवरी में रिलीज हुई। इसके बाद मार्च में स्पीड और बढ़ी। इस महीने दो फिल्में आर्इं। हुकुम और म्हारे हिवड़ा में नाचे मोर। मई इससे भी ज्यादा खुशी देने वाला रहा। इसमें एक के बाद एक तीन फिल्में रिलीज हुर्इं। मायाजाळ, टांको भिड़ग्योऔर तांडव। पहली दोनों फिल्में शुक्रवार को ही सिनेमाघरों में उतरीं, लेकिन कुछ कारणों के चलते तांडव रविवार को लगी। सितंबर थोड़ा ठंडा रहा। इसमें दो ही फिल्में आर्इं। जीवती रे बेटी और मरुधर म्हारो घर। नवंबर में ग्राफ वापस चढ़ा, वो भी थोड़ा बहुत नहीं बल्कि बहुत ज्यादा। इस महीने चार फिल्में दर्शकों तक पहुंचीं। यह महीना इसलिए भी खास रहा कि दो-दो फिल्में एक साथ रिलीज हुर्इं। धरम बहन के साथ स्कूल बाउंड्री रिलीज हुई तो राजू राठौड़ के साथ म्हारी सुपातर बींदणी। इससे प्रतिस्पर्द्धा का माहौल भी बना।

रिकॉर्ड टूटा

इस साल 12 फिल्में रिलीज हुई हैं, जो कि एक रिकॉर्ड है। यह राजस्थानी सिनेमा के इतिहास में किसी भी साल में रिलीज होने फिल्मों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। पिछला साल इस मामले में दूसरे स्थान पर है। इसमें भी तब तक के आंकड़ों के हिसाब से रिकॉर्डतोड़ दस फिल्में सिनेमा घरों में पहुंची थी। हिट-फ्लॉप की गणित से दूर अगर इस आंकड़े पर गौर करें तो यह काफी उत्साहजनक है। फिल्मकारों के लिए भी और कलाकारों, दर्शकों के लिए भी।

ये साल भी रहे उत्साह से भरे

राजस्थानी फिल्म उद्योग के लिए आज जैसा खुशी का माहौल पहले भी कुछ सालों में रहा है। तीन से चार फिल्मों के रिलीज होने का सिलसिला तो शुरू से ही रहा है, लेकिन 1988 में यह टूटा। इस साल छह फिल्में रिलीज हुर्इं। सबसे ज्यादा चर्चित रहने वाली फिल्म बाई चाली सासरिए भी इसी साल दर्शकों के बीच पहुंची थी। यही नहीं नानी बाई को मायरो और करमां बाई जैसी धूम मचाने वाली फिल्में भी दर्शकों को इसी साल देखने को मिली थी। इसके अलावा ढोला-मारू जैसी प्रेम में पगी कहानी भी दर्शकों को सिनेमा घरों तक खंीचने में कामयाब रही थी। वर्ष 1989 इससे एक कदम आगे रहा। इस साल सात फिल्में आर्इं। सभी फिल्में बहुत अच्छी थीं पर रमकूड़ी-झमकूड़ी ने महिलाओं को खासा लुभाया। 1990 और 91 में यह संख्या कम हुई फिर भी दोनों साल पांच-पांच फिल्में देखने को मिलीं। इनमें 1991 में आई भोमली फिल्म भी थी, जिसमें निभाए गए किरदार के कारण आज भी नीलू को भोमली के नाम से जानते हैं लोग। एक आंकड़ा आगे 1993 में बढ़ा। इस साल छह मूवी प्रदर्शित हुई। इनमें डिग्गी पुरी का राजा खासी चर्चा में रही। इसके बाद राजस्थानी सिनेमा धीमी गति से चलता रहा। किसी साल एक और किसी साल दो से तीन या ज्यादा से ज्यादा चार फिल्में आती रहीं। करीब 19 साल बाद 2013 में राजस्थानी सिनेमा ने स्पीड पकड़ी। नतीजतन 10 फिल्में सिनेमा घरों तक पहुंची। यह गति 2014 में और बढ़ी। उम्मीद की जानी चाहिए कि 2015 राजस्थानी फिल्म इंडस्ट्री के लिए और खुशी देने वाला साबित हो।

सात महीने निकले खाली

इस साल रिकॉर्ड तोड़ फिल्में रिलीज होने खुशी के साथ ही एक हलकी सी टीस यह भी है कि सात महीने ऐसे निकल गए जब कोई फिल्म रिलीज नहीं हुई। सबसे पहला महीना ही सूखा बीत गया। फरवरी और मार्च में फिल्में रिलीज हुईं , लेकिन अप्रेल फिर खाली गया। मई में बहार रही तो जून, जुलाई और अगस्त में पतझड़ सा माहौल रहा। तीनों महीने एक भी फिल्म सिनेमाघर तक नहीं पहुंची। सितंबर में दो फिल्में दर्शकों को देखने को मिली पर अक्टूबर में फिर सूखा पड़ गया। दिसंबर शुरू हो चुका है। पहला शुक्रवार खाली चला गया है। आगे भी अभी कोई उम्मीद नहीं दिख रही है।

Comments

Popular posts from this blog

एक और राजस्थानी फिल्म रिलीज के लिए तैयार, 12 को होगा म्यूजिक रिलीज

जयपुर।  निर्देशक अनिल सैनी की एक और राजस्थानी फिल्म रिलीज के लिए तैयार है-जाग्रति। इसका म्यूजिक 12 अगस्त को शास्त्रीनगर स्थित साइंस पार्क में आयोजित वंदे मातरम कार्यक्रम में रिलीज किया जाएगा। इस मौके पर फिल्म के पोस्टर का विमोचन भी होगा।

शशि सुंदर फिल्म के बैनर तले बनी इस फिल्म के निर्माता हैं  भवर सिंह। सूत्रों के अनुसार सबकुछ योजनानुसार रहा तो शिक्षा के महत्व को दर्शाती यह फिल्म अगले महीने सिनेमाघरों में पहुंच जाएगी।

कास्ट एंड क्रूबैनर : शशि सुंदर फिल्म
निर्माता : भंवर सिंह
निर्देशक : अनिल सैनी
लेखक : योगेश बालोत
डीओपी : सुनील
एडिट : संदीप सैनी
मेकअप : संजय सेन, पंकज सेन
म्यूजिक : करण सिंह,अमन अमोस
गीत : अनिल भूप
सिंगर : अमन अमोस, सुमन मेहता
कलाकार : राशि शर्मा, योगेंद्र वर्मा, योगेश बालोत, महेश महावर, प्राची, हितेश सैनी,आनद गंगवार, मोहित, तरुण, राजेश भार्गव, सेलेष, शिव, विनोद, सुनील जैन, कौसल्या, विनता,  अंसुमान, सौम्य, अभी, भूमि और अन्य।

सोजत में 27 को रिलीज होगी यह राजस्थानी फिल्म

श्री सिरे सिनेमा में  रिलीज होगी मौसर, अभिनेता विनय चौधरी ने अपनी फेसबुक वाल पर शेयर की जानकारी जयपुर। वीर तेजाजी सिने प्रोडक्शन के बैनर तले बनीनिर्माता ओम सोऊ की राजस्थानी फिल्म मौसर सबसे पहले सोजत सिटी व आसपास के लोग देखेंगे।  यहां 27 जुलाई को यह फिल्म श्री सिरे सिनेमा में  रिलीज होगी। यह जानकारी अभिनेता विनय चौधरी ने अपनी फेसबुक वाल पर शेयर की है। सामाजिक कुरीतियों के प्रति लोगों को जागरूक करने वाली इस फिल्म के निर्देशक अनिल सैनी हैं।


फिल्म की युएसपी मुरारी लाल पारीक को माना जा रहा है। पारीक अपनी कॉमेडी की वजह से लोगों में खासे लोकप्रिय हैं। ऐसे में उम्मीद की जा रही है उनकी यह लोकप्रियता सिनेमा में भीड़ खींचेगी। फिल्म में उनके अपोजिट उषा जैन हैं वहीं क्षितिजकुमार भी महत्वपूर्ण भूमिका में नजर आएंगे। विनय चौधरी व राशि शर्मा का रोमांटिक एंगल युवाओं को आकर्षित कर सकता है। दोनों की जोड़ी इस फिल्म में पहली बार बड़े परदे पर दिखाई देगी। अभिनेता राज जांगिड़ ने भी इसमें कैमियो किया है। फिल्म में अमन सिंह, सुमन शर्मा, रानू कक्कड़, प्रियांशु, के के, मोनू, अर्जुन शर्मा, अशोक, वर्षा व पिंटू भी दमदार…

नखराळा देवरिया अब भोजपुरी फिल्मों में मचाएगा धूम

जयपुर। सुपातर बीनणी से नखराळो देवरियो के रूप में फेमस हुए राजस्थानी फिल्मों के जाने-माने अभिनेता क्षितिज कुमार ने अब भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री में भी पांव जमाने शुरू कर दिए हैं। वे इन दिनों दो भोजपुरी फिल्मों में अभिनय कर रहे हैं। एक है ना जाने कब प्यार हो गइल और दूसरी है जन्नत-ए-इश्क


क्षितिज कुमार ने बताया कि दोनों ही फिल्मों में उनका रोल पावरफुल है। दोनों में ही वो हीरोइन के पिता के किरदार के रूप में नजर आएंगे। चूंकि, हीरोइन के पिता हैं तो उनके हीरोइन के साथ भी सीन हैं तो हीरो के साथ भी। उन्होंने बताया कि ना जाने कब प्यार हो गइल के डाइरेक्टर रामकिशन साहनी हैं। इस फिल्म में उनके साथ घनश्याम, रामकिशन साहनी, प्रिया, अनुराधा और रोशनी महत्वपूर्ण भूमिकाओं में हैं। इसकी शूटिंग काशीपुर, जैतपुर और नैनीताल व आसपास के क्षेत्र में चल रही है।


जन्नत ए इश्क के प्रोड्यूसर पंकज भोमिया हैं और डाइरेक्शन नीरज भारद्वाज कर रहे हैं। इस फिल्म में वे प्रिया रंजन, मिस इंडिया रही कैरिनिका मिश्रा, सुशील सिंह, और ललितेश झा जैसे कलाकारों के साथ काम कर रहे हैं।