Skip to main content

सास छुरी बहू छप्पन छुरी

राजस्थानी भाषा में बड़े बजट की फिल्मों के अकाल को दूर करने के लिए निर्माता महेन्द्र धारीवाल बनाएंगे सास-बहू कहानी पर फिल्म
सुरेन्द्र बगवाड़ा . जयपुर
राजस्थानी भाषा ने मान-सम्मान दिया है। ‘रमकुड़ी झमकुड़ी’, ‘भोमली’ हमेशा मानस पलट पर रहती हैं। उस समय की यादें और बातें हमेशा प्रोत्साहित करती हैं। कहती हैं ‘मैं हूं तो सब है, सब है तो मैं हूं।’ इसलिए एक बार फिर मेरी मरुधरा पर लौटने का मन हो रहा है। महोत्सव में विचार-विमर्श सेशन में शामिल होने के बाद लगा कि मेरी मां को मेरी जरूरत है। रात को सोते समय काफी सोचा। उसी समय तय कर लिया कि अब राजस्थानी भाषा और सिनेमा को वापस आसमान की ऊंचाई तक पहुंचाने के लिए पहल करनी होगी। तभी सोचा कि अभी तक सास बहू पर हावी होती है, लेकिन अब मनोरंजन के लिए सास पर बहू को हावी करना होगा। कहानी सोची। ‘सास छुरी बहू छप्पन छुरी’। जनवरी में राजस्थानी में शूटिंग शुरू करूंगा। इसमें कुछ कलाकार बॉलीवुड और अधिक राजस्थानी होंगे। बेटा चिराग सनी देओल, अरशद और तुषार को लेकर फिल्म ‘बैंड बाजे देंगे’ रिलीज करेगा।
राजस्थानी चला मुंबई
‘भोमली’ करने के बाद लगता था कि अब मैं बड़ा हो गया हूं। सभी जानते हैं। चलो सबसे बड़ी फिल्म बनाता हूं। ‘जाटणी’ बनाई, परंतु चली नहीं। आर्थिक रूप से जरूर कमजोर पड़ा, लेकिन हिम्मत नहीं हारी और चल निकला मुंबई। टी.एल.वी. प्रसाद के साथ मिथुन को लेकर फिल्म ‘हत्यारा’ की। फिर मिथुन के साथ कई प्रोजेक्ट किए। एक लंबे अंतराल के बाद सुनील दर्शन (जानवर, तलाश, इंतकाम के निर्देशक) से मिला। उन्होंने टीनू वर्मा से मिलाया। वे भी निर्देशन में आना चाहते थे। उन्होंने सनी देओल को लेकर ‘मां तुझे सलाम’ की। फिल्म चली। और मैं भी चल निकला।
(source-citybhaskar,jaipur )

Comments

Popular Posts

अब तक रिलीज राजस्थानी फिल्में

1942
1 नजराना
1961
2 बाबासा री लाडली
1963

म्हारी सुपातर बीनणी का तीसरे सप्ताह में प्रवेश

सीकर के सम्राट सिनेमा में सफलतापूर्वक दो सप्ताह पूरे फनी पिपुल एंटरटेन्मेंट प्राइवेट लिमिटेड बैनर तले बनी राजस्थानी फिल्म म्हारी सुपातर बींदणी सीकर के सम्राट सिनेमा में सफलतापूर्वक दो सप्ताह पूरे करने के बाद तीसरे में प्रवेश कर गई है। राजस्थानी सिनेमा के चाहने वालों के लिए यह बड़ी खुशखबरी है,

राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर लांच

जयपुर। श्रवण सागर की अपकमिंग राजस्थानी फिल्म शंखनाद का पोस्टर मालवीय नगर स्थित होटल ग्रांड हरसल में किया गया। महाराणा प्रताप के सैनानी गाडिया लुहारों की वर्तमान हालत और पिछड़ेपन पर बनी इस फिल्म का निर्देशन संतोष क्रांति मिश्रा ने किया है।

फिल्म के प्रोड्यूसर मनोज यादव व प्रजेंटर अनिल यादव ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि लोगों को यह फिल्म जरूर पसंद आएगी। फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे अभिनेता श्रवण सागर ने कहा कि यह फिल्म उनके दिन के बहुत करीब है। इसमें मेरा किरदार मेरे अब तक निभाए किरदारों से एकदम अलग है। इसके लिए मुझे गाड़िया लुहारों के रहन-सहन, उनके उठने-बैठन और बात करने का तरीका सीखने के लिए काफी तैयारी करनी पड़ी। मैं उन लोगों से मिला भी। उनके बीच रहा भी। इस दौरान मैंने देखा कि कितनी विपरीत परिस्थितियों में वे जीवन जी रहे हैं। थोड़ी परेशानी तो हुई, लेकिन इस दौरान का अनुभव शंखनाद में निभाई गई भूमिका में रम जाने में बहुत मददगार रहा। इस मौके पर बिजनेसमैन अरुण गोयल, विकास पोद्दार और अशोक प्रजापति भी मौजूद रहे।

फिल्म में श्रवण सागर ,संजना सेन, सजल गोयल ,अथर्व श्रीवास्तव ,रॉकी संतोष, गोविंद …

Recent in Sports